June 15, 2021

शक्ति न्यूज अल्मोड़ा |

1918 से प्रकाशित शक्ति अखबार का डिजीटल प्लेटफार्म


Warning: sprintf(): Too few arguments in /home/shaktialmora/public_html/wp-content/themes/newsphere/lib/breadcrumb-trail/inc/breadcrumbs.php on line 254

अल्मोड़ा पुलिस का सराहनीय प्रयास – मिशन हौसला के अन्तर्गत पुलिस विभाग द्वारा रक्तदान

पुलिस के साईबर सैल ने धनराशि वापिस दिलायी

1 min read

Subscribe Channel

साईबर अपराधियों से सर्तकता एवं जानकारी से बचा जा सकता है। इस बात की अपील एसएसपी अल्मोड़ा ने जनपद वासियों से की है। उन्होंने कहा कि कोरोना संक्रमण के साथ साथ साईबर अपराधियों ने भी अपना संक्रमण तेजी से फैलाया है और नये नये प्रकार से जाल बिछाकर लोगों की कमाई से अपनी जेब भर रहे है। उन्होने जनता से अपील की है कि यदि कोई गूगल पे, फोन पे, पेटीएम आदि प्रयोग कर रहे हो तो उन्हे सावधान रहना चाहिए। उन्होंने कहा कि जब कोई भी डिजीटल माध्यम से लेन देन करते है तो ठगी की संभावनें भी बढ़ जाती है तथा आजकल जाली क्यूआर कोड भेज कर अकाउट में पैसे रिसिव होने का झंसा देकर पैसे निकालने की कोशिस साईबर अपराधी कर रहे है। जबकि इनमें केवल पैसा जा सकता है और पैसा प्राप्त नहीं किया जा सकता। यदि आपके साथ ऐसा कोई कर रहा है तो वह आपको धोखा दे रहा हैं।
ऐसा ही एक मामला विगत 02 नवंबर को अल्मोड़ा निवासी रघु​ तिवारी की पुत्री के साथ हुआ है। जिनके साथ आनलाइन धोखाधड़ी कर उनके खाते से 20 हजार रूपये साईबर अपराधियों ने निकाल लिये। जब इस बात की रिर्पोट शिकायतकर्ता ने साईबर सैल् अल्मोड़ा में साईबर सैल में दर्ज करायी तो सैल के प्रभारी भूपेंद्र सिहं ​ब्रजवाल ने बताया कि शिकायतकर्ता द्वारा अपनी कार को ओएलएक्स पर बेचने हेतु अपलोड किया गया जिसमें किसी अनजान व्यक्ति द्वारा कार को खरीदने हेतु संपर्क कर पेमेंट चैक करने हेतु 10 रूपये भेजे तथा शेष रूपये भेजने हेतु गोपनीय जानकारी मांग कर आनलाइन ठगी कर उसके खाते से 20 हजार रूपये निकाल लिये गये। साईबर सैल द्वारा अग्रिम कार्यवाही हेतु नोडल ​अधिकारी एयटेल पेमेंट बैंक के अधिकारियों से वार्ता कर आवश्यक कार्यवाही की गयी और 23 फरवरी 2021 को शिकायतकर्ता के खाते में 20 हजार रूपया वाफिस कराया गया।
इस पर शिकायतकर्ता द्वारा साईबर सैल् की त्वरित कार्यवाही के लिए पुलिस का आभार व्य​क्त किया गया।
अल्मोड़ा पुलिस ने अपील की है कि यदि कोई इस ठगी का शिकार होता है तो उसकी शिकायत नजदीकी थाना अथवा साईबर सैल में करें।

अल्मोड़ा मेडिकल कॉलेज के प्राचार्य डॉक्टर आर जी नौटियाल का संदेश

Copyright © शक्ति न्यूज़ | Newsphere by AF themes.