Mon. Jul 6th, 2020

शक्ति न्यूज़- 1918 से प्रकाशित शक्ति अखबार का डिजीटल प्लेटफार्म

आईवीआरआई मुक्तेश्वर में कोरोना के सैम्पलों की जांच की दूसरी लैब शुरू, डीएम बंसल ने किया शुभारंभ

1 min read

मुक्तेश्वर। जिलाधिकारी सविन बंसल के प्रयासों से आईवीआरआई मुक्तेश्वर में कोरोना के सैम्पलों की जांच की दूसरी लैब शुरू हो गई है। इस लैब का विधिवत् शुभारम्भ जिलाधिकारी सविगन बंसल ने मंगलवार को किया। डीएम बंसल के अल्प समय में विशेष प्रयासों से सुसज्जित परीक्षण लैब 15 दिन के भीतर अस्तित्व में आ गई। इस लैब के क्रियाशील हो जाने से सुशीला तिवारी चिकित्सालय लैब पर दबाव कम होगा तथा प्रतिदिन सैम्पल जाचों की प्रक्रिया मे इजाफा होगा। इस अवसर पर जिलाधिकारी बसंल ने आईवीआरआई मुक्तेश्वर के परिसर मे पौधारोपण भी किया गया। इस मौके पर डीएम बंसल ने बताया कि आईवीआरआई मुक्तेश्वर लैब मेें कुमाऊं मण्डल के पर्वतीय जनपदोें पिथौरागढ, बागेश्वर, अल्मोडा तथा जनपद नैनीताल के दुर्गम क्षेत्र के सैम्पलों म्पलों की जांच होगी। इस लैब के क्रियाशील हो जाने से पर्वतीय जनपदों को विलम्ब से मिल रही रिपोर्ट तेजी से मिलेगी तथा पाॅजेटिव पाये जाने वाले मरीजों का इलाज भी तेजी से हो सकेगा। उन्होने कहा कि सैम्पल जांच में होने वाला व्यय का भुगतान प्रशासन करेगा। उन्होेने प्रभारी आईवीआइआई संस्थान डा. पुुतान सिंह को निर्देश कि प्रतिदिन सैम्पल जांच की रिपोर्ट आईसीएमआर के पोर्टल पर अपलोड अनिवार्य रूप से करेंगे।
गौरतलब है कि लैब की स्थापना तथा उपकरणों आदि के लिए जिलाधिकारी द्वारा 10 लाख की धनराशि दी गई थी तथा लैब भवन तथा आईवीआरआई भवनों के सेनिटाइजेशन के लिए आपदा मद से जिलाधिकारी ने सेनिटाइजेशन मशीन क्रय करने के लिए 4 लाख की धनराशि भी दी गई थी। लेब प्रारम्भ करने से पूर्व लैब व भवन को सेेनिटाइजेशन भी किया गया। जिलाधिकारी ने आईवीआरआई लैब में कार्य कर रहे वैज्ञानिक एवं तकनीकी स्टाफ को सम्बोधित करते हुये कहा कि कोरोना-19 मेें कार्योे मे सहभागिता करना अति महत्वपूर्ण है। उन्होने कहा सभी अपने नियमित कार्यो के साथ ही कोरोना सैम्पल जांच का कार्य करें, कार्य करने मे सावधानियां जरूर बरती जांए।
मुख्य चिकित्साधिका डा. भारती राणा ने बताया कि मंगलवार को आईवीआरआई लैब मे 20 सैम्पल जांच के लिए दिए गये है। उन्होने कहा लैब की दोनों मशीनें संचालित होने पर प्रतिदिन औसतन 200 सैम्पलों की जांच होगी। जिससे जनपद व कुमाऊं मण्डल में सदिग्धों की अधिक से अधिक सैम्पल लेकर जांच की जा सकेगी। उन्होने बताया कि आईवीआइआई लैब मेें एसटीएच से एक माइक्रो बाइलोजिस्ट की तैनाती की गई है साथ ही आईवीआरआई के वैज्ञानिक एवं तकनीशियनों को पूर्व मे कोरोना जाचं के लिए प्रशिक्षित कर दिया गया है।
निरीक्षण दौरान उपजिलाधिकारी विनोद कुमार, अपर मुख्य चिकित्साधिकारी डा. टीके टम्टा, डा. संतोष कुमार गुप्ता, डा. संजय विश्वास , डा. सिद्वार्थ, डा. करम चन्द्र नेगी, डा. अजेयता, डा0 मधुसूदन, डा. अमित शर्मा, डा. नितिश, डा. शबरीनाथ गौतम, डा. गौरव आदि मौजूद थे।

Copyright © शक्ति न्यूज़ | Newsphere by AF themes.