July 7, 2022

Shakti Almora

-since from 1815

शक्ति के अभिलेखागार से— 72 वर्ष पूर्व:- गौरी फौजों की भारत से रमानगी

रायल नारकाफ रेजीमेंट की दूसरी बटालियन ब्रिटिश फौज का दूसरा दल है ब्रिटिश सैनिकों को भारत से हटाने की योजना के अंतर्गत 16 अगस्त को भारत से रवाना हुआ है। 7 अगस्त 1947 को भारत से ब्रिटिश सेना का पहला दल गया था।
राष्ट्रीय तीर्थ बागेश्वर में स्वतंत्रता दिवस— कूर्मांचल केसरी पं0 बद्रीदत्त पाण्डे जी ने भगिते हुए भाषण दिया
बागेश्वर 14 अगस्त की सुबह सुमधुर स्वर लहरी में उठो सोने वालो सवेरा हुआ है वतन के फकीरों का फेरा हुआ है प्रसिद्ध राष्ट्रीय भजन वाद्यंत्रों के साथ प्रभात फेरी में गाया गया स्वराज्य मन्दिर बागेश्वर पहुंचने तक काफी जनसमूह साथ हो गया था वहां झण्डा प्रार्थना के बाद जुलूस भंग ​हुआ। अपार जनसमूह स्वराज्य मंदिर भूमि में एकटृा हुआ। झण्डा रोहण कू0 के0 पं0 बदरी दत्त पाण्डे जी के द्वारा अपार हर्ष व शंख ध्वनि के साथ किया गया। झण्डा प्रार्थना के बाद जूलुस स्थानीय डाकमंगले में ध्वजा रोहण को पहुंचा। पाण्डे जी ने आर्शीवाद दिया आज तक इस बंगले में जो जो भष्टाचार व अत्याचार हुए अब न होंगे। बागेश्वर इलाके की ओर से आपको मान पत्र दिया गया। उत्तर में आपने कहा मेरा शरीर जनता के हित के लिए अर्पण है। अपनी जिंदगी तक में राष्ट्रीय हाईस्कूल की कोई भी उचित सहायता के लिए हरवक्त तैयार रहूंगा। रात्रि दीपावली से जगमगा उठी नवयुवक मण्डली ने एक नाटक खेला।
शक्ति 26 अगस्त 1947

Copyright © All rights reserved. | Newsphere by AF themes.