July 5, 2022

Shakti Almora

-since from 1815

पहाड़ और घी संक्रन्ति

घी संक्रान्ति त्यौहार कुमॉऊं में भाद्रपद मास के प्रथम दिवस को घी संक्रांति के रूप में मनाने की परम्परा रही है। इस दिन घी खाना आवश्यक माना जाता है। पुरानी कहावत है कि जो इस दिन घी नहीं खाता वह अगले जन्म में घौंघा बनता है। इसके मूल रूप में भाव यह था कि दुधारू गाय अथवा भैंस पालने में बडी मेहनत लगती है जो ऐसा करते हैं वही घी का सेवन कर सकते हैं लेकिन आलसी लोगों को यह नसीब नही हो सकता। अत: घौंघा बनने का भाव यही है कि आलसी होना। अगर मेहनत नही होगी तो आपकी खेती भी अच्छी नहीं होगी तथा आप पशुधन से भी बंचित रहेंगे यही घौंघा बनने का भाव है।(घौंघा से यंहा तात्पर्य आलसी से है।

Copyright © All rights reserved. | Newsphere by AF themes.