June 15, 2021

शक्ति न्यूज अल्मोड़ा |

1918 से प्रकाशित शक्ति अखबार का डिजीटल प्लेटफार्म

अल्मोड़ा पुलिस का सराहनीय प्रयास – मिशन हौसला के अन्तर्गत पुलिस विभाग द्वारा रक्तदान

रचना दिवस महोत्सव कार्यक्रम — ऐपण को राष्ट्रीय अंतरराष्ट्रीय स्तर पर मार्केटिंग के लिए एक नये तरीके से सोचना होगा

1 min read

Subscribe Channel

अल्मोड़ा। मोहन उप्रेती लोक संस्कृति कला एवं विज्ञान शोध समिति के तत्वाधान में आयोजित रचना दिवस महोत्सव कार्यक्रम की श्रंखला में सात दिवसीय सांस्कृतिक कार्यक्रमों का आयोजन किया गया। कला की विविध विधाओं के कलाकारो ने अपनी कला का प्रदर्शन किया। कार्यक्रम में दो दिवसीय शास्त्रीय संगीत संध्या प्रसिद्ध सितार वादक स्वर्गीय ध्रुव तारा जोशी , नृत्य सम्राट उदयशंकर व पंडित चंद्रशेखर पंत की स्मृति में आयोजित की गई। शास्त्रीय संगीत के कार्यक्रम में ऋषिकेश से आमंत्रित ध्रुपद गायक प्रदीप चोपड़ा व आस्था चोपड़ा ने ध्रुपद गायन, हल्द्वानी की कथक नृत्यांगना अंबिका रावत वह नव्या सुयाल ने कथक नृत्य की प्रस्तुति दी। शहर के तबला वादक राजेंद्र नयाल व नैनीताल के तबला वादक अमन महाजन ने एकल तबला वादन, हल्द्वानी के डाक्टर हरीश जोशी ने ग़ज़ल , दिल्ली से रवि पाल ने शास्त्रीय गायन भीमताल के हर्षित ने सितार वादन, बनारस घराने के कलाकार उज्जवल मिश्र ने शास्त्रीय गायन व भजन प्रस्तुत किया। तीसरे दिन संगीत संध्या मोहन उप्रेती के नाम रही मोहन उप्रेती की स्मृति में कई सांस्कृतिक कार्यक्रम लोक कलाकारो व सांस्कृतिक दलो के द्वारा प्रस्तुत किए गए ।

ऐपण कलाकरा मीरा जोशी को स्मृति चिन्ह प्रदान करते अल्मोड़ा आकाशवाणी के निदेशक प्रतुल जोशी

दो दिवसीय संस्कार गीत कार्यशाला का आयोजन किया गया । कार्यशाला में डॉ माधुरी बथवाल ने संस्कार गीतों की विकास यात्रा के विषय में उदाहरण सहित विस्तार से चर्चा की। संगीता जोशी राधा तिवारी ने बच्चों को संस्कार गीत सिखाएं। शिव दत्त पंत ने लोक गीतों की प्रस्तुति दी। हिन्दी कवि सम्मेलन का आयोजन किया गया जिसमें अल्मोड़ा के साथ साथ हल्द्वानी,बाजपुर दिल्ली वा गाजियाबाद के रचनाकारों ने शिरकत की।


चार दिवसीय कुमाऊनी लोक चित्रकला ऐपण कार्यशाला का आयोजन जी जी आई सी के प्रेक्षागृह में किया गया। ऐपण कलाकार मीरा जोशी ने बच्चो को ऐपण की विस्तार से जानकारी दी। संस्था के अध्यक्ष हेमन्त जोशी ने जी जी आई सी अल्मोड़ा में चल रही चार दिवसीय ऐपण कार्यशाला में 32 बच्चो ने भाग लिया। कार्यशाला में कुमाऊनी ऐपण के विषय में जानकारी ऐपण कलाकरा मीरा जोशी द्वारा दी गई। ऐपण में इस्तेमाल किए जाने वाले प्रतीक चिन्ह के महत्व बताते हुए स्नान चौकी, पूजा स्थल के ऐपण , धूलिअर्घ की चौकी, वर चौकी, लक्ष्मी चौकी, सरस्वती चौकी आदि बनाने सिखाए।
हेमन्त जोशी ने के व्यवसायीकरण पर अपनी बात रखते हुए कहा की हमें ऐपण को राष्ट्रीय अंतरराष्ट्रीय स्तर पर मार्केटिंग के लिए एक नई तरीके से सोचना होगा। उन्होंने बताया कि मधुबनी पेंटिंग में किस तरह के प्रयोग कलाकारो के द्वारा किए जा रहे हैं। हेमन्त जोशी ने कहा की उत्तराखण्ड में कला व कलाकारों के विकास के लिए राज्य में ललित कला अकादमी व संगीत नाटक अकादमी की स्थापना राज्य सरकार के द्वारा जल्द की जानी चाहिए।
रचना दिवस पर देशभर के कई कलाकारों को सम्मानित किया गया जिनमें डॉ माधुरी बड़थ्वाल को मोहन उप्रेती लोक संस्कृति, कौस्तुभ सम्मान से पंडित विजय शंकर मिश्र जहूर आलम मौलू दास को, समिति सम्मान से मनोरमा जोशी, शिवदत्त पंत , हयात सिंह रावत, डॉ स्वर्ण रावत को, युवा प्रतिभा सम्मान से प्रदीप चोपड़ा आस्था चोपड़ा, डॉ हरीश जोशी, पवन पहाड़ी, रवि पाल को,कला साधक सम्मान से डॉ सुरेश मठपाल, राजेंद्र नयाल, जीवन जोशी व हेमंती देवी बाल प्रतिभा सम्मान से हर्षित कुमार वह रचना कारप्रोसन अवार्ड से आभास जोशी पाठक को सम्मानित किया गया।
इन कलाकारों को यह सम्मान पद्मश्री डॉ यशोधर मठपाल , नगर पालिका अध्यक्ष प्रकाश जोशी, मुख्य विकास अधिकारी नवनीत पांडे व आकाशवाणी अल्मोड़ा के निदेशक प्रतुल जोशी ने प्रदान किया।
कार्यशाला के समापन पर विदुषी मीरा जोशी द्वारा सभी प्रतिभागियों को प्रमाण पत्र प्रदान किए गए। कार्यशाला का संयोजन व संचालन युवा चित्रकार नमिता टम्टा के द्वारा किया गया। सचिव कमल पांडे ने सभी का आभार व्यक्त किया।
सात दिवसीय रचना दिवस महोत्सव के समापन पर रजनी जोशी, हर्षित तिवारी,एकता आर्य, आयुषी पांडेय, शीतल टम्टा, स्वेता सिंह सहित कई मौजूद थे।

अल्मोड़ा मेडिकल कॉलेज के प्राचार्य डॉक्टर आर जी नौटियाल का संदेश

Copyright © शक्ति न्यूज़ | Newsphere by AF themes.