August 9, 2022

Shakti Almora

-since from 1815

दु:खद–भैंस चराने गए बालक को निगल गया मगरमच्छ परिवार में मातम

35 Views

खटीमा। यहां एक बालक को उस समय मगरमच्छ ने अपना शिकार बना दिया जब वह नदी में गयी अपनी भैंस को लाने के लिए नदी में उतरा.जिसके बाद ​चीख पुकार सुनकर मौके पर लोग एकत्र हो गये मगरमच्छ को जाल में फंसाकर बाहर निकाला गया।
जानकारी के अनुसार रविवार को शाम करीब साढ़े तीन बजे यूपी सीमा से सटे ग्राम मेहरबाननगर निवासी मीना देवी पत्नी स्व. शोभा प्रसाद का 11 वर्षीय पुत्र वीर सिंह भैंस चराने देवहा नदी के किनारे गया हुआ था। अचानक भैंस देवहा नदी में घुस गई। वीर सिंह उसे बाहर निकालने के लिए नदी में कूद गया। इसी बीच नदी में मौजूद एक मगरमच्छ ने बालक वीर सिंह पर हमला कर उसे पानी में गहराई तक खींच लिया। वीर सिंह की चीख-पुकार पर आसपास काम कर रहे लोग घटनास्थल की ओर दौड़ पड़े। जब तक ग्रामीण कुछ समझ पाते मगरमच्छ पानी में गहराई की ओर चला गया। घटना की सूचना पर बच्चे की माता के साथ कई ग्रामीण मौके पर पहुंच गए। ग्रामीण गोताखोर बहादुरी दिखाते हुए रस्सी का जाल लेकर नदी में कूद गए। घंटों की मशक्कत के बाद गोताखोर मगरमच्छ को जाल में फंसाकर पानी से बाहर खींच लाए।बताया जा रहा है कि मगरमच्छ बालक वीर सिंह को जिंदा निगल गया। यहां ग्रामीणों ने पानी से बाहर निकाले गए मगरमच्छ के पेट से बालक को बाहर निकालने की मांग शुरू कर दी। इसको लेकर ग्रामीणों की पुलिस से घंटों बहस हुई। खटीमा कोतवाल नरेश चौहान ने लोगों से बातचीत कर मगरमच्छ का मेडिकल परीक्षण कराने का आश्वासन दिया, तब जाकर लोग मेडिकल परीक्षण पर राजी हुए।
घटना के बाद से बालक वीर सिंह की मां मीना देवी का रो-रोकर बुरा हाल है। बालक के पिता की मृत्यु काफी समय पहले हो चुकी है। मीना मजदूरी करके परिवार चलाती है। वीर सिंह का एक बड़ा भाई दीपांशु आयु (18) दो बहनें सीमा (15) व अंजलि (14) हैं। घटना से गांव में शोक का माहौल है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.