Sat. Nov 28th, 2020

शक्ति न्यूज अल्मोड़ा |

1918 से प्रकाशित शक्ति अखबार का डिजीटल प्लेटफार्म

दुःखद, जिला सत्र न्यायाधीश का फाँसी में झूलता हुआ शव बरामद होने से मचा हड़कंप

1 min read


रिपोर्ट । एस एस कपकोटी
यूं तो न्यायालय के जज को धरती का भगवान का रूप कहा जाता है। लेकिन दूसरी ओर सबको न्याय देने वाला जज अगर खुद ही खुदकुशी जैसा रास्ता अपना ले तो बात समझ से परे हो जाती है ऐसा ही एक मामला सामने आया है जहां एक जिला जज ने अपने ही कमरे में पंखे से लटक कर खुदकुशी कर ली।
सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार छत्तीसगढ़ के मुंगेली ज़िले के जिला एवं सत्र न्यायाधीश श्रीमती कांता मार्टिन कुछ सालों से मुंगेली में पोस्टेड थी जहां मुंगेली के करही मुख्य मार्ग में एडीजे बंगले में रहती थी । सुबह जब देर तक जिला एवं सत्र न्यायधीश कांता मार्टिन के बंगले का दरवाजा नहीं खुला तो सीजीएम ने पुलिस को सूचना दी जिसके बाद पुलिस कप्तान अरविंद कुजुर मौके पर पहुंचे। और मुंगेली टीआई ने दल बल के साथ बंगले के दरवाजा को खोलने की कोशिश की जब दरवाजा नहीं खुला तो पुलिस ने खिड़की खोलकर देखा तो कांता मार्टिन पंखे से लटकी पाई गई। बताया जाता है कि 55 वर्षीय कांता मार्टिन इस बंगले में अकेले रहती थी । बताया जा रहा है कि इसी बंगले में कुछ साल पहले मुंगेली में पदस्थ एडीजी श्रीमती अमृता संजय लाल भी रहा करती थी उनके पति बैंक में अधिकारी थे जो रायपुर में पदस्थ थे ठीक इसी तरह न्यायाधीश अमृता संजय लाल ने भी किसी बंगले में जहर खाकर खुदकुशी की थी उसके बाद इस बंगले में काफी सालों तक कोई भी अधिकारी रहने से डरता था बाहर हाल अब इस बंगले को भूत बंगला एवं मनहु बंगले की संज्ञा दे रहे हैं।

Copyright © शक्ति न्यूज़ | Newsphere by AF themes.