August 9, 2022

Shakti Almora

-since from 1815

आज का विचार-जाने क्या है वास्तविक सफलता ?..!

हम जिसे सफलता समझ बैठे है, वह सफलता है नहीं, बस दिखाई पड़ती है और हर चीज़ जो दिखाई पड़ती है जरूरी नही की वो सत्य हो। हम उसे सफल आदमी समझ लेते है, जो आर्थिक रूप से सम्पन्न है, या जो बहुत पढ़ा लिखा है, या जो ऊँचे पदों पर आसीन है, जिसके चारों ओर लोगों की भीड़ है। सफलता का ये पैमाना ग़लत है, ऐसे आदमी के पास स्वयं के जीने के लिए एक भी क्षण नहीं होता, वह कभी अपना जीवन नहीं जी पाता, उसकी सारी चेतना दूसरों को दिखाने में गुज़र जाती है।सफल वह है, जिसके जीवन में प्रेम है, करूणा है, जो सबके प्रति सम्मान औऱ समानता का भाव रखता है, जो प्रकृति औऱ प्राणियों के प्रति सदा संवेदनशील हृदय औऱ सदभावना रखता है ,जो स्वयं का सम्मान करता है, जिसे दूसरों से सम्मान की तनिक भी आकांक्षा नहीं है। जो झूठ, पाखंड औऱ दिखावा से कोसों दूर हो.., ऐसा व्यक्ति कहीं भी हो, चाहे ऊँचे पदों पर या नीचे पदों पर, चाहे आर्थिक रूप से अति सम्पन्न हो या न हो, चाहे वो उच्च शिक्षित हो या सामान्य, वह व्यक्ति सफल अवस्य होता है और या ये कहूँ कि बस यही व्यक्ति सफल है।

रमेश सिंह पाल