November 14, 2021

शक्ति न्यूज अल्मोड़ा |

1918 से प्रकाशित शक्ति अखबार का डिजीटल प्लेटफार्म

जिला विकास प्राधिकरण को समाप्त करने की मांग को लेकर फिर गरजी सर्वदलीय संघर्ष समिति

1 min read
advert aps
advert
previous arrow
next arrow

अल्मोड़ा- जिला विकास प्राधिकरण को समाप्त करने की मांग को लेकर सर्वदलीय संघर्ष समिति ने फिर अपना आन्दोलन प्रारम्भ कर दिया है। आज समिति के संयोजक नगर पालिका अध्यक्ष प्रकाश चन्द्र जोशी के नेतृत्व में सर्वदलीय संघर्ष समिति चौघानबाटा गांधी पार्क में एकत्रित हुई तथा प्रदेश सरकार के खिलाफ जमकर कार्यवाही की।
इस अवसर पर समिति के संयोजक नगरपालिका अध्यक्ष प्रकाश चन्द्र जोशी ने कहा कि नवम्बर २०१७ में प्रदेश सरकार ने तुगलकी फरमान से जिलास्तरीय विकास प्राधिकरण को लागू कर दिया था।तबसे सर्वदलीय संघर्ष समिति एवं स्थानीय जनता लगातार आन्दोलन,धरने एवं ज्ञापन के माध्यम से इस जिलास्तरीय विकास प्राधिकरण का विरोध कर रहे हैं। पर प्रदेश सरकार की हठधर्मिता है कि प्रदेश सरकार जनभावनाओं के विरूद्व इस प्राधिकरण पर कोई स्पष्ट निर्णय नहीं ले रही है और ना ही इसे समाप्त कर रही है जिस कारण जनता में काफी रोष है। उन्होंने कहा कि प्रदेश सरकार के द्वारा प्राधिकरण स्थगन की जो बात कही गयी है उससे जनता में भ्रम की स्थिति है।पालिकाध्यक्ष ने कहा कि पूर्व मुख्यमंत्री तीरथ सिंह रावत अपने बयानों में पहले ही स्पष्ट कर चुके हैं कि जिला स्तरीय विकास प्राधिकरण भ्रष्टाचार के अड्डे बन चुके हैं और इससे पूर्व भाजपा के पूर्व प्रदेश अध्यक्ष बंशीधर भगत ने स्वयं सार्वजनिक रूप से तत्कालीन मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत को ज्ञापन देकर जिला स्तरीय विकास प्राधिकरणों को समाप्त करने की मांग की थी। लेकिन इसके बाबजूद सरकार ने जिलास्तरीय विकास प्राधिकरण को केवल स्थगित किया जो भाजपा सरकार की कथनी एवं करनी को स्पष्ट करता है।सर्वदलीय संघर्ष समिति ने सभी विधायकों जिनके द्वारा विधानसभा एवं उसके बाहर जिलास्तरीय विकास प्राधिकरणों को समाप्त करने की मांग की गयी थी उनका आभार व्यक्त किया तथा उनसे पुनः आग्रह किया है कि आगामी विधानसभा सत्र में पुनः इस मांग को उठाकर इसे समाप्त कराने की व्यवस्था करें। संयोजक ने बताया कि अगले मंगलवार को नगर व्यापार मंडल अध्यक्ष सुशील साह भी समिति के आन्दोलन को अपना समर्थन देंगें।
पूर्व विधायक मनोज तिवारी ने कहा कि प्रदेश सरकार प्राधिकरण स्थगन की बात करके केवल जनता को भ्रमित करने का काम कर रही है।इस प्राधिकरण के कारण जनता को भारी दिक्कतों का सामना करना कर पड़ रहा है।उन्होंने सरकार से स्पष्ट मांग की है कि इस काले कानून को अविलम्ब वापस लेकर भवन मानचित्र स्वीकृति सम्बन्धित समस्त अधिकार नगरपालिकाओं को वापस देने चाहिए। उपपा के केन्द्रीय अध्यक्ष वरिष्ठ अधिवक्ता पी०सी०तिवारी ने कहा कि इस भाजपा सरकार ने जनता से पूर्व में जो वादे किये थे वे सभी आज झूठे सिद्व हुए हैं तथा आज भी जो वादे भाजपा सरकार जनता से कर रही है इन वादों का भी भविष्य में यही हश्र होगा। उन्होंने कहा कि सरकार को जनता की दिक्कतों से कोई सरोकार नहीं रह गया है। इस सरकार का उद्देश्य केवल जनता को बरगला कर सत्ता हासिल करना है। कांग्रेस नगर अध्यक्ष पूरन सिंह रौतेला ने कहा कि सरकार की कथनी और करनी में जमीन आसमान का अन्तर है। सरकार प्राधिकरण को समाप्त ना कर जनता को परेशान करने का काम कर रही है।समिति के प्रवक्ता राजीव कर्नाटक ने कहा कि कल बुद्ववार को सर्वदलीय संघर्ष समिति जिलाधिकारी के माध्यम से मुख्यमंत्री को ज्ञापन प्रेषित करेगी। उन्होंने समस्त शहरवासियों से प्रातः 11:30 बजे कोविड गाईडलाईन का पालन करते हुए कलक्ट्रेट पहुंचने की अपील की है।
धरने में नगरपालिका अध्यक्ष प्रकाश चन्द्र जोशी,पूर्व विधायक मनोज तिवारी,वरिष्ठ अधिवक्ता पी सी तिवारी,व्यापार मंडल अध्यक्ष सुशील साह,समिति के प्रवक्ता राजीव कर्नाटक, दीपांशु पान्डेय,कांंग्रेस नगर अध्यक्ष पूरन सिंह रौतेला,यूथ प्रदेश प्रवक्ता वैभव पान्डेय,आनन्दी वर्मा,किशनलाल, प्रताप सिंह सत्याल,चन्द्र मणि भट्ट, नारायण बिष्ट, ललित मोहन पन्त,हेम तिवारी सभाषद,तारा चन्द्र जोशी,गोपा नयाल,पारितोष जोशी,दीप तिवारी,राजू गिरी,पूरन तिवारी,लक्ष्मण ऐठानी,भारतरत्न पान्डे,संगम पान्डे,संजय दुर्गापाल,नवीन गुणवन्त, हर्ष कनवाल,ललित मोहन जोशी,महेश लाल वर्मा,अख्तर हुसैन,राबिन भण्डारी सहित अनेकों लोग उपस्थित रहे।

Copyright © शक्ति न्यूज़ | Newsphere by AF themes.