November 13, 2021

शक्ति न्यूज अल्मोड़ा |

1918 से प्रकाशित शक्ति अखबार का डिजीटल प्लेटफार्म

अल्मोड़ा सोबन सिंह जीना विश्वविद्यालय के कुलपति की नियुक्ति निरस्त

1 min read
advert aps
advert
previous arrow
next arrow

खबर नैनीताल । हाईकोर्ट ने सोबन सिंह जीना विश्वविद्यालय अल्मोड़ा के कुलपति प्रो. एनएस भंडारी की नियुक्ति को निरस्त करने का आदेश दिया है। बताया जा रहा है कि यूजीसी की नियमावली के विरुद्ध यह नियुक्ति की गयी है।
बताते चले कि देहरादून निवासी राज्य आंदोलनकारी रवींद्र जुगरान हाईकोर्ट में जनहित याचिका दायर की थी, याचिका में जुगरान ने कहा था कि राज्य सरकार ने सोबन सिंह जीना (एसएसजे) विश्वविद्यालय अल्मोड़ा के कुलपति पद पर प्रो. एनएस भंडारी की नियुक्ति यूजीसी के नियमावली को दरकिनार कर की है। याचिकाकर्ता का कहना था कि यूजीसी की नियमावली के अनुसार वाइस चांसलर नियुक्त होने के लिए दस साल की सेवा प्रोफेसर पद पर होनी आवश्यक है जबकि एनएस भंडारी ने प्रोफेसर के रूप में करीब आठ साल की सेवा की है। बाद में प्रोफेसर भंडारी उत्तराखंड पब्लिक सर्विस कमीशन के मेंबर नियुक्त हो गए थे। उस दौरान की सेवा उनकी प्रोफेशरशिप में नहीं जोड़ा जा सकता है। इसलिए उनकी नियुक्ति अवैध है याचिका की सुनवाई करते हुए हाईकोट ने कुलपति प्रो. एनएस भंडारी की नियुक्ति को यूजीसी की नियमावली के विरुद्ध पाते हुए निरस्त कर दिया है

Copyright © शक्ति न्यूज़ | Newsphere by AF themes.