November 14, 2021

शक्ति न्यूज अल्मोड़ा |

1918 से प्रकाशित शक्ति अखबार का डिजीटल प्लेटफार्म

पर्वतीय सरकारी सस्ता गल्ला विक्रेता कल्याण समिति के प्रदेश अध्यक्ष कुमांऊ मनोज वर्मा ने उपभोक्ताओं को हो रही परेशानी के लिए सरकार को ठहराया जिम्मेदार

1 min read
advert aps
advert
previous arrow
next arrow

अल्मोड़ा। यहां नंदा देवी मंदिर में हुई प्रेस वार्ता के दौरान पर्वतीय सरकारी सस्ता गल्ला विक्रेता कल्याण समिति के कुमांऊ क्षेत्र के प्रदेश अध्यक्ष मनोज वर्मा ने कहा ​कि सरकार सस्ता गल्ला विक्रेताओं को जायज मांगों को अनदेखी कर रही है। उन्होंने कहा कि पूर्व व वर्तमान सरकारों को लगभग दर्जनों मांग पत्र दिये जा चुके है। परंतु आज तक उन मांग पत्रों पर गौर नहीं किया गया है जिसको देखते हुवे पर्वतीय क्षेत्र के दुकानदार हड़ताल पर है।
वर्मा ने कहा कि वर्तमान में एक दुकानदार को 2500 से लेकर 5000 का कमीशन यह सरकार देती है जो नाकाफी है और उसमें से भी सरकार अभी तक पुराना मानदेय सरकार नहीं दे पायी है। समिति के संयोजक अभय साह ने कहा कि जिस तरह केरल सरकार द्वारा सस्ता गल्ला विक्रेेताओ को 18900 से लेकर 27900 रूपया मानदेय दिया जा रहा है ​उसी तर्ज में प्रदेश में भी विक्रेताओं को मानदेय दिया जाय। वहीं समिति के सलाहकार दिनेश गोयल ने कहा कि कोरोना काल से दिवग्त हुवे सस्ता गल्ला विक्रेता परिवार को जहां दिल्ली, राजस्थान सरकार 50 लाख रूपये दे रही है वहीं उत्तराखंड में कोविड संक्रमण से दिवग्त हुुये सस्ता गल्ला विक्रेता को अभी तक काई भी सहायता राशि आज तक नहीं दी गयी है। उन्होंने आरोप लगाया कि सरकार सस्ता गल्ला विक्रेताओं द्वारा राशन नहीं उठाने पर विक्रेताओं को कार्यवाही का भय दिखाकर उनका उत्पीड़न कर रही है जिसका ​समिति पुरजोर विरोध करती है।
इस दौरान सस्ता गल्ला विक्रेताओं ने कहा कि हड़ताल से आम उपभोक्ता को हो रही परेशानी से उनको बेहद दुख हो रहा है। लेकिन इसका कारण उन्होंने प्रशासन को ठहराते हुवे कहा कि सरकार द्वारा उनके दिये हुवे मांग पत्रों पर अब तक कोई कार्यवाही नहीं की गयी है। जिससे मजबूर होकर समिति हड़ताल को बेबस है और परेशानी आम उपभोक्ता को उठानी पड़ रही है।
इस अवसर प्रदेश अध्यक्ष कुमांऊ मनोज वर्मा, प्रदेश संयोजक कुमांऊ अभय साह, केसर सिंह, विपिन चद्रं भट्ट ​आदि उपस्थित थे।

Copyright © शक्ति न्यूज़ | Newsphere by AF themes.