November 15, 2021

शक्ति न्यूज अल्मोड़ा |

1918 से प्रकाशित शक्ति अखबार का डिजीटल प्लेटफार्म

जिला विकास प्राधिकरण को समाप्त करने की मांग को लेकर संघर्ष समिति का धरना जारी

1 min read
advert aps
advert
advert rajesh boot house
advert prakash2
previous arrow
next arrow

अल्मोड़ा- जिला स्तरीय विकास प्राधिकरण को समाप्त करने की मांग को लेकर सर्वदलीय संघर्ष समिति ने आज गांधी पार्क में धरना दिया तथा प्रदेश की भाजपा सरकार के खिलाफ जमकर नारेबाजी की।इस अवसर पर धरने को सम्बोधित करते हुए समिति के सदस्य पी०सी०सी० सदस्य हर्ष कनवाल ने कहा कि नवम्बर 2017 में जबसे प्रदेश की भाजपा सरकार ने जिला स्तरीय विकास प्राधिकरण लागू किया है तबसे सर्वदलीय संघर्ष समिति लगातार इसे समाप्त करने की मांग को लेकर आन्दोलनरत है तथा स्थानीय जनता भी इसे अविलम्ब समाप्त करने की मांग कर रही है। लेकिन इसे सरकार की हठधर्मिता ही कहेंगें कि सरकार जिला विकास प्राधिकरण के मुद्दे पर चुप्पी साधे हुए है। समिति के प्रवक्ता राजीव कर्नाटक ने कहा कि सर्वदलीय संघर्ष समिति विगत चार सालों में जिला स्तरीय विकास प्राधिकरण को समाप्त करने की मांग को लेकर दर्जनों ज्ञापन महामहिम राष्ट्रपति,महामहिम राज्यपाल,मुख्यमंत्री, कुमाऊं आयुक्त सहित प्रधानमंत्री तक को भेज चुकी है पर कहीं भी कोई सुनवाई नहीं हो रही है। उन्होंने कहा कि समिति के दबाव में प्रदेश सरकार ने कुछ माह पूर्व जिला स्तरीय विकास प्राधिकरण को स्थगित करने की बात कही है जो समस्या का हल नहीं है।उन्होंने कहा कि प्रदेश सरकार को जिला स्तरीय विकास प्राधिकरण को पूर्ण रूप से स्पष्ट आदेश के तहत समाप्त करना चाहिए तथा भवन मानचित्र सम्बन्धित सभी अधिकार पूर्व की तरह नगरपालिका को देने चाहिए।उन्होंने कहा कि समिति प्रदेश सरकार की हठधर्मिता के सामने झुकने वाली नहीं है तथा जबतक प्रदेश सरकार इस जनविरोधी जिला स्तरीय विकास प्राधिकरण को समाप्त नहीं कर देती तब तक समिति का आन्दोलन जारी रहेगा। धरने की अध्यक्षता ललित मोहन पंत ने तथा संचालन दीपांशु पाण्डेय ने किया। धरने में पी०सी०सी०सदस्य हर्ष कनवाल, प्रताप सत्याल, आनन्द सिंह बगडवाल, समिति के प्रवक्ता राजीव कर्नाटक, दीपांशु पान्डे, ललित मोहन पन्त ,पूरन रौतेला, एम० सी०काण्डपाल, एन०डी०पाण्डे, महेश चन्द्र आर्या, दिनेश पाण्डे सहित दर्जनों लोग शामिल रहे।

Copyright © शक्ति न्यूज़ | Newsphere by AF themes.