January 14, 2022

शक्ति न्यूज अल्मोड़ा |

1918 से प्रकाशित शक्ति अखबार का डिजीटल प्लेटफार्म

सीडीएस जनरल बिपिन रावत के हेलिकॉप्टर दुर्घटना की जांच में सामने आयी ये बातें

1 min read

भारतीय वायुसेना— सीडीएस जनरल बिपिन रावत समेत 14 लोगों की जिस हेलिकॉप्टर दुर्घटना में मौत मामले की जांच के बाद शुरुआती जानकारी सामने आ गई है. हेलिकॉप्टर दुर्घटना के पीछे मैकेनिकल फेलियर, तोड़फोड़ या लापरवाही का हाथ नहीं है।
.प्रारंभिक नतीजों के मुताबिक, घाटी में मौसम की स्थिति में अप्रत्याशित बदलाव देखने को मिला, जिसकी वजह से हेलिकॉप्टर बादलों के बीच जाकर फंस गया और दुर्घटनाग्रस्त हो गया. बादलों की वजह से पायलट को दिशाभ्रम हो गया और हेलिकॉप्टर अनियंत्रित होकर जमीन से जा टकराया. जांच दल ने दुर्घटना के सबसे संभावित कारण का पता लगाने के लिए सभी उपलब्ध गवाहों से पूछताछ की. इसके अलावा फ्लाइट डेटा रिकॉर्डर और कॉकपिट वॉयस रिकॉर्डर का एनालिसिस किया गया. अपने नतीजों के आधार पर, कोर्ट ऑफ इंक्वायरी ने कुछ सिफारिशें की हैं जिनकी समीक्षा की जा रही है.
बता दें कि 8 दिसंबर को सीडीएस रावत उनकी पत्नी मधुलिका रावत और 12 अन्य सेना के जवान सुलूर एयरबेस से वेलिंगटन एयरबेस के लिए हेलिकॉप्टर में सवार हुए. हेलिकॉप्टर के अपने गंतव्य तक पहुंचने के कुछ मिनट पहले सुलूर एयरबेस कंट्रोल रूम का हेलिकॉप्टर से संपर्क टूट गया. इसके बाद हेलिकॉप्टर के दुर्घटनाग्रस्त होने की जानकारी सामने आई. दुर्घटना से पहले स्थानीय लोगों द्वारा रिकॉर्ड किए गए हेलिकॉप्टर के वीडियो से पता चला था कि हेलिकॉप्टर कम ऊंचाई पर उड़ रहा था और बादल के बीच था. दुर्घटना में मारे गए 13 अन्य लोगों में ब्रिगेडियर एलएस लिद्दर, लेफ्टिनेंट कर्नल हरजिंदर सिंह और ग्रुप कैप्टन वरुण सिंह शामिल थे।

Copyright © शक्ति न्यूज़ | Newsphere by AF themes.