January 23, 2022

शक्ति न्यूज अल्मोड़ा |

1918 से प्रकाशित शक्ति अखबार का डिजीटल प्लेटफार्म

गलत तरीके से की गयी भोजन माता की नियुक्ति निरस्त

1 min read

खबर चंपावत — यहां भोजन माता की नियुक्ति को लेकर उपजे विवाद का मंगलवार को एसएमसी और पीटीए की खुली बैठक में पटाक्षेप हो गया है। मामले की जांच के बाद नियुक्ति का निरस्त किया गया। बताया गया कि जल्द विज्ञप्ति जारी कर नए सिरे से भोजनमाता की नियुक्ति होगी।
जानकारी के अनुसार राजकीय इंटर कॉलेज सूखीढांग में स्कूल मैनेजमेंट कमेटी (एसएमसी) और पीटीए की ओर से पहले परित्यक्ता महिला पुष्पा भट्ट को भोजनमाता नियुक्त किया गया था। इससे पहले कि पुष्पा कार्यभार संभालतीं, विद्यालय प्रशासन ने कथित तौर पर गुपचुप तरीके से अनुसूचित जाति की महिला सुनीता देवी को भोजनमाता नियुक्त कर उसे कार्यभार भी सौंप दिया। इसका पता चला तो पीटीए अध्यक्ष नरेंद्र जोशी व अभिभावक नियुक्ति के विरोध में खड़े हो गए। वहीं एससी महिला को भोजनमाता बनाए जाने से सवर्ण जाति के बच्चों ने स्कूल में उसके हाथ का बनाया भोजन खाना बंद कर दिया। मामला उजागर हुआ तो प्रशासन और शिक्षा विभाग हरकत में आया जिसके बाद मुख्य शिक्षा अधिकारी ने आननफानन खंड शिक्षा अधिकारी को मामले की जांच कर रिपोर्ट देने के लिए कहा।
बुधवार को एसएमसी और पीटीए की खुली बैठक होनी थी लेकिन नैनीताल से एडी बेसिक अजय नौटियाल के मामले की जांच के लिए पहुंचने पर मंगलवार को ही एसएमसी और पीटीए की खुली बैठक आयोजित कर दी गई। मुख्य शिक्षा अधिकारी ने बताया कि दोनों पक्षों को सुनने और अभिलेखों की जांच में भोजनमाता की नियुक्ति अवैधानिक पाई गई है। इस पर नियुक्ति को रद्द कर दिया गया है।
इधर युवा कांग्रेस जिलाध्यक्ष सूरज प्रहरी ने सूखीढांग के जीआईसी में भोजनमाता की नियुक्ति को लेकर उपजे विवाद को जातीय रूप देने की निंदा की है। उनका कहना है कि आज देश तरक्की के साथ आगे बढ़ रहा है, समाज में आपसी भाईचारा कायम है परंतु कुछ लोग समाज में जातिगत भेदभाव फैला कर सामाजिक सौहार्द को बिगाड़ने की कोशिश कर रहे हैं। उन्होंने ऐसे लोगों पर कार्यवाही करने की मांग की है।

Copyright © शक्ति न्यूज़ | Newsphere by AF themes.